सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

क्रिकेट जगत का पहला फिक्स मैच ओर बॉलीवुड कनैक्शन 53 साल पुरानी सच्ची घटना

हाल की पोस्ट

Plane Crash In India

विचित्र विमान हादसा:-
जब आसमान मे आमने सामने टकरा गए दो विमान 
https://www.youtube.com/watch?v=-wtL7TPadIg

ये उस दौर की घटना है जब विश्व भर मे इतनी टेक्नोलेजी उपलब्ध नहीं थी यहाँ तक की विमानो की सूचना के लिए भी मात्र प्राइमेरी रेडार ही उपलब्ध थे भारत मे ठंड की मध्यम शुरुवात हो चुकी थी और उस दिन यानि 12 नवंबर 1996 की शाम ठीक 6 बजकर 30 मिनिट पर दिल्ली के इंद्रा गांधी इंटेरनेशनल एयरपोर्ट से सऊदी अरब के विमान फ्लाइट नंबर 763 ने देहरान के लिए उड़ान भरी ही थी जिसमे कुल 289 यात्री एवं 23 क्रू मेंबर्स शामिल थे वही दूसरी तरफ कजाकिस्तान से एक छोटा चार्टर विमान दिल्ली की तरफ लेंडिंग के लिए आकाश को चीरता हुआ आ रहा था जिसमे कुल 27 यात्री एवं 10 क्रू मेंबर्स यात्रा कर रहे थे दरअसल इस विमान मे कजाकिस्तान के व्यापारी

विष्णुदत बिश्नोई

विष्णुदत बिश्नोई

Vishnudat:-  brave officer give up… is this suicide or murder?? 

पिछले 4 दिनों से राजस्थान की सियासत गरम है क्या फिर किसी नेता ने अपना दांव खेला है??? उठापटक वाले इस घटनाक्रम के बावजूद सूबे के मुख्यमंत्री अभी तक चुप्पी साधे बैठे है जबकि सूबे ने एक होनहार पुलिस अफसर को खो दिया है राज्य की जनता सीबीआई जांच की मांग परअड़ी है वही दूसरी तरफ सियासतदान सिर्फ आश्वासन देने के अलावा कुछ भी नही कर पा रहे है आखिर क्यो राज्य सरकार सीबीआई जांच से पीछे हट रही है?? क्या सरकार को अपने किसी विधायक के जैल जाने का डर है??
आइये जानते है इस पथकथा को शुरुवात से Shovishnudat कहानी की शुरुवात होती है एक ईमानदार एवं दबंग पुलिस इंस्पेक्टर विष्णुदत बिश्नोई की राजगढ़ (चुरू ) थाने मे पोस्टिंग से विष्णुदत जी 1976 मे रायसिंघनगर के एक छोटे से गाँव मे जन्मे किसान पृष्टभूमि से बाहर निकले ऐसे होनहार पुलिस वाले थे जिन्हे बचपनसे ही आम लोगो की मदद करने मे विशेष रुचि थी वर्ष 1997 मे पहली बार जयपुर मे पोस्टिंग लेकर पुलिस मे अपनी

corona attack in jalore

क्या फूट चुका है जालोर मे कोरोना बम?????

देश भर मे कोरोना महामारी से त्राहि त्राहि मची है चारों तरफ अफरा तफरी का माहौल उतप्न्न हो चुका है ऐसे मे भला राजस्थान क्यो पीछे रहता???
राजस्थान मे सर्वप्रथम भीलवाडा मे एक डॉक्टर दंपति के मार्फत कोरोना विस्फोट हुआ जिसमे 235 लोगो को चपेट मे लिया हालांकि उनमे अधिकतर रिकवर भी हुए लेकिन  राजस्थान  मे इस महामारी की शुरुवात हो चुकी थी इसके बाद बची कसर तब्लीगी जमातीयों ने पूरी कर दी और कोरोना का दूसरा विस्फोट जयपुर के रामगंज मे हुआ जहां एक साथ 450 से ज्यादा कोरोना पॉज़िटिव पाये गए और देखते ही देखते राजस्थान भारत के टॉप 4 राज्यो मे शामिल हो गया. ये सब घटनाए मार्च महीने के अंत एवं अप्रेल के शुरुवाती सप्ताह की थी एवं इसके बाद स्थितियाँ सुधरने लगी थी और प्रदेश मे सबको उम्मीद भी जगी थी की हम इस भ्यंकर स्थिति से उबर रहे है ओर सभी प्रदेश वासी ये  आशा कर रहे थे की 17 मई तक राजस्थान के हालात बेहतर हो जाएँगे
इसी बीच देश के कोने कोने मे फंसे प्रवासियों को वापस अपने ग्रहराज्य (जन्मभूमि) लाने के प्रयास शुरू किए गए और नये तरीके से ऑनलाइन एवं ऑफ लाइन पास भी वितरण किए गए …

world after corona

the world after corona (COVID-19)


  कोरोना के बाद कैसी होगी दुनिया 

आज से ठीक 6 महीने पहले जब पूरी दुनिया 2020 के स्वागत मे तैयार खड़ी थी तब किसी ने सोचा न होगा की एक ऐसी अंजान महामारी विश्व भर मे ऐसी तबाही मचा देंगी की लोगो को अपनी ज़िंदगी बचाने के लिए महीनो महीनो भर घरो मे कैद होना पड़ेगा लोगो को अपने आस पास की किसी वस्तु मात्र को भी छूना भयंकर गलती की श्रेणी मे माना जाएगा ओर किसी एक की चूक ना सिर्फ उसके परिवार अपितु पूरे इलाके पूरे शहर को तबाह कर के छोड़ेगा
कोविड-19
हमेशा अलग अलग तरह के विध्व्स प्रयोग करने के लिए चीन अक्सर सुर्ख़ियो मे रहा है लेकिन इस बार चीन की इसी करतूत का खामियाजा पूरा विश्व भुगत रहा है दरअसल कुछेक देश इसे चीन की साजिश समझ रहे है तो कुछेक लेब मे घटित हुई एक भूल मात्र !
अब हकीकत क्या है ये तो चीनी ही बेहतर जानते है लेकिन आज कोविड के कारण चीन जिस तरह से विश्व पटल के निशाने पर है इससे एक बात तय हो जाती है की ये सब आनन फानन मे हुई चूक नहीं है बल्कि हो सकता है इसकी तैयारी काफी पहले से चल रही हो लेकिन आज साश्वत सत्य ये है की चीन ने पूरे विश्व को एक ऐसी महामारी दे दी है जिस…

Rajkumar राजकुमार के अजब-गजब किस्से

Rajkumar  राजकुमार के अजब-गजब किस्से




आज हम आपको बताएँगे बलूचिस्तान मे जन्मे मुंबई मे पले बढ़े माहिम थाने के एक अड़ियल जिद्दी सब इंस्पेक्टर और बाद मे बॉलीवुड मे राजकुमार नाम से मशहूर हुए कुलभूषण पंडित से जुड़े दिलचस्प किस्से

फिल्म निर्देशक प्रकाश मेहरा अपनी फिल्म जंजीर की तयारी मे लगे थे और उन्होने जंजीर मे पुलिसवाले का रोल मशहूर अभिनेता राजकुमार को देख कर ही लिखा था बड़ी मुश्किल से राजकुमार ने प्रकाश मेहरा को मिलने का वक्त दिया क्योकि 70 का दशक आते आते राजकुमार इस मुकाम तक पहुँच चुके थे की जब बड़े से बड़े निर्माता राजकुमार से सीधी जुबान बात नही कर पाते थे कारण राजकुमार का वही अड़ियल रवैया जो फिल्मों मे देखने को मिलता था वो निजी ज़िंदगी मे भी कायम था और वे ठहरे हाजिरजवाब व्यक्ति. भला अगला कुछ पूछे उससे पहले अगले को आईना दिखाने के लिए राजकुमार के होठो पर जैसे शब्द स्वत उभर आते थे फिल्मी पंडितो की माने तो पारदर्शी साफ़्गोई से सच्ची बात कह कर अगले की ओकात बता देने वाला फिल्म इंडस्ट्री मे अकेला इंसान सिर्फ राजकुमार ही थे राजकुमार की खासियत थी की उनके सामने कितना भी बड़ा आदमी खड़ा हो उसे उसकी ओकात याद द…

facebook / whatsapp पर फर्जी आईडी वाले सावधान रहिए अब तुम्हारी खेर नही

अब फर्जी लोगो पर लगेगी लगाम
अगर आपको याद हो तो पिछले साल एक सर्वे की रिपोर्ट आई थी जिसके आधार पर कहा गया था की फेसबुक पर भारत भर मे लड़को से ज्यादा लड़कियों की संख्या है अगर अनुपात मे तुलना की जाये तो लड़के ज्यादा फिर फेसबुक पर यकायक लड़कियों की संख्या ज्यादा क्यो???? दरअसल कई चुन्नू मुन्नू अब रिंकल टिंकल नाम से फेसबुक पर फर्जी आईडी बना कर चेट करते है ओर अन्यो को भी परेशान करने मे पीछे नही रहते लेकिन जल्द ही सरकार ऐसा फेसला लेने जा रही है जिससे टिंकल रिंकल बन कर बैठे चुन्नू मुननुओ के अब आफत आने वाली है अगर आप भी इसी तरह की कोई फर्जी आईडी बना कर बैठे है तो सचेत हो जाइए क्योकि फेसबुक डीवी द्वारा दायर याचिका पर कल सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से जवाब मांगा है की आखिर क्यो व्हात्सप्प ओर फेसबुक को आधार से लिंक नही किया जा रहा??? सुप्रीम कोर्ट का कहना था की जितना जल्दी सोशल मीडिया को आधार से लिंक किया जाएगा सरकार ओर साइबर डिपार्टमेन्ट के लिए काम उतना ही आसान बन जाएगा और कोई भी फर्जी आईडी नही रहेगी तो सोशल मीडिया के जरिए अराजकता फेलाने वालो मे स्वत ही कमी आ जाएगी सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को 24 सितंबर तक इ…

छात्रसंघ चुनाव 2019

छात्रसंघ चुनाव:- छात्रो ने दोनों पार्टियो को नकारा


पिछले दिनों राज्य के बड़े शहरो मे बड़े बड़े होर्डिंग लिए सरपट दौड़ती suv कारे ओपन जीप मे नारे लगाते युवा ओर शहर की सड़कों पर बिखरे पड़े पेम्पलेट शायद किसी बड़े चुनाव का हवाला दे रहे थे छात्रो के लिए अपना नेता चुनने का पर्व है महाविध्यालयों के चुनाव राजनीति की प्रथम सीढ़ी है छात्रसंघ चुनाव और साल भर कॉलेज मे मौज काटने वाले पिछली बेंच के होनहारों के लिए किसी दिवाली से कम नहीं होते छात्रसंघ चुनाव
छात्रसंघ चुनावो मे चंदा इक्कठा करना और उस चंदे से को चुनाव मे पानी की तरह बहाना आम बात है इस देश मे हालांकि कुछेक राज्यो मे अब छात्रसंघ चुनाव पर पूर्णतया रोक लग चुकी है क्योकि यूपी और बिहार जैसे राज्यो मे बात बात पर पिस्टल तानने का खेल छात्रसंघ चुनावो मे ही छात्र सीख लेते थे ऐसे मे वहाँ की सरकारो ने मजबूरन चुनावो पर रोक लगा दी हालांकि रोक तो राजस्थान मे भी लगी थी लेकिन मात्र 6 साल के लिए 2005 से 2011 तक 2011 मे तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जो कभी खुद भी छात्रसंघ अध्यक्ष के तौर पर अपना राजनीतिक केरियर शुरू किए थे ने रोक हटा दुबारा चुनावो की अनुमति दी औ…