Sachin tendulkar when sachin kidnapped - khabar buzz

khabar (खबर) news must be read for information According to the media survey, in today's era, 75% of the Indian population reaches the Internet for news so here you can read articles about politics, sports, life style, Bollywood gossips, and about in Indian history....

बुधवार, जुलाई 24, 2019

Sachin tendulkar when sachin kidnapped


Sachin tendulkar when sachin kidnapped   


Sachin tendulkar when sachin kidnapped

किसी भी भारतीय से पूछिये सचिन कौन अर्थात उनके लिए सचिन शब्द का अर्थ ही क्रिकेट का भगवान है भले दूसरे विभिन्न क्षेत्रो मे सचिन नाम के किसी भी व्यक्ति ने ख्याति प्राप्त कर ली हो लेकिन 90 के दशक मे सचिन तेंदुलकर ने जो क्रिकेट मे नाम कमाया ऐसा कारनामा दूसरा कोई सचिन नही कर पाया भले वो सचिन खेदेकर जैसा अभिनेता हो या सचिन पाइलेट जैसा राजनेता 98 से 2005 तक जन्मे अधिकतर बच्चो के नाम उनके माँ बाप ने सचिन तेंदुलकर के नाम पर रखे जो आज 20 या 25 वर्ष के सचिन नाम के युवा घूम रहे है वे सब सचिन तेंदुलकर से प्रभावित नाम के आधार पर नामकरण तय करवाए गए थे
सचिन ने क्रिकेट को भारत मे प्रसिद्ध किया या क्रिकेट ने सचिन को लेकिन दोनों की जुगलबंदी से ऐसा समा जमा की जो क्रिकेट के शौकीन नही थे वे भी सिर्फ सचिन के देखने के लिए क्रिकेट मैच देखा करते थे और जो क्रिकेट प्रेमी थे वे भी सिर्फ सचिन के खेलने तक टीवी के सामने रहा करते थे ये वो दौर था जब भारत मे सचिन की बेटिंग के वक्त रोड सुनसान हो जाते थे और सचिन के आउट हो जाने पर टेलीविज़न सेट तक बंद हो जाया करते थे सिर्फ भारत ही नही जहां जहां क्रिकेट लोकप्रिय है वहाँ लोग सिर्फ सचिन की बेटिंग देखने स्टेडियम तक जाया करते थे चाहे शारजाह हो या सिडनी अर्थात सचिन की लोकप्रियता को कभी भी किसी से तुलनात्मक दृस्थि से नहीं आँका जा सकता है सचिन जैसे शूरमे सदियो मे एकाध जन्म लेते है
 आज हम बात करेंगे उन दिनों की जब भारतीय क्रिकेट उफान की तरफ बढ़ रहा था और सचिन कांबली कुंबले श्रीनाथ जैसे युवाओ का भारतीय टीम मे चयन हो चुका था ओर अपनी काबिलियत और प्रदर्शन के दम पर उन्होने साबित भी कर दिया था की वे भारतीय क्रिकेट का भविष्य है एव लंबी रेस के घोड़े है जो एकाध टेस्ट की असफलता से हार मानने वालो मे नही
 


Sachin tendulkar when sachin kidnapped


सचिन के अपहरण की कहानी



पिछले दिनों 26 जून को औस्ट्रेलिया के सिडनी के रहवासी आप्रवासी भारतीय होटल व्यवसाई अग्निरथ चौधरी ने अपने ट्विटर और फेसबुक अकाउंट पर एक फोटो पोस्ट की और याद दिला दिया 27 साल पुराना दिलचस्प किस्सा
दरअसल अग्निरथ चौधरी गुवाहाटी के मशहूर होटल व्यवसाई हेमेन्द्र दत्ता चौधरी के बेटे है जो हाल मे औस्ट्रेलिया रहते है बात 1992 के शुरुवाती दिनों की है जब भारतीय क्रिकेट  टीम गुवाहाटी एकदिवसीय मैच के लिए आई थी और टीम मे शामिल थे उभरते सितारे सचिन तेंदुलकर विनोद कांबली वेंकटपति राजू सलिल अंकोला ओर अनिल कुंबले भारतीय टीम उस वक्त होटल बेले व्यू मे रुकी थी चूंकि होटल बेले व्यू के निदेशक अग्निरथ के पिता हेमेन्द्र थे सो अग्निरथ की भी जान पहचान सभी खिलाड़ियो से हो गयी अग्निरथ ने उभरते सितारे सचिन से वादा किया की अगर भारतीय टीम ये मैच जीतती है तो वे उन्हे असम की हसीन वादियों की सेर करवाएगे वो भी उनकी खुद की कार मे (उस दौर मे क्रिकेटरों को बाहर घूमने पर इतनी बंदिश नही थी जितनी आज के दौर मे है) सो वादे के मुताबिक भारतीय टीम मैच जीत गयी और अग्निरथ के साथ बाहर घूमने जाना तय हुआ सचिन के साथ थे वेंकटपति राजू सलिल अंकोला एव अग्निरथ के मित्र विशी भुजेल
ये वो दौर था जब भारत के पूर्वोतर राज्यो मे उल्फा आतंकवाद चरम पर था आज भी यकीन नही होता की टीम मेनेजर अजित वाडेकर ने इन खिलाड़ियो को बाहर जाने की छूट कैसे दे दी होगी????
अग्निरथ सचिन राजू अंकोला सहित अपनी काले शीशे वाली मारुति वेंन मे गुवाहाटी शहर से बाहर निकले ओर असम की सुंदरता देखने हेतु प्रस्थान कर दिया दिन भर घूमने के बाद जब दोपहर भोजन का वक्त हुआ तो गुवाहाटी से 150किमी दूर एक ढाबे पर कार रोकी ओर अग्निरथ ढाबे वाले से खाने का मेन्यू पूछने चले गए तभी सचिन ने कार की खिड़की खोल बाहर का दृश्य निहारा ओर ढाबे वाले की नजर सचिन पर पड़ गयी अग्निरथ कुछ समझा पाते उससे पहले ही ढाबे के मालिक ने चिल्लाना शुरू कर दिया की सचिन का अपहरण हो गया किडनेप हो गया उल्फा वालों ने सचिन  का किडनेप कर लिया है अग्निरथ ओर सचिन समेत सभी साथी प्शोपेश मे थे की इस मुसीबत से निपटा कैसे जाये ऊपर से सुबह से बाहर घूमने के कारण पेट भी खाली सो जबरदस्त भूख अलग से परेशान कर रही थी ढाबा मालिक ने आनन फानन ने नजदीकी पुलिस ठाणे मे टेलीफोन घूमा दिया और सचिन तेंदुलकर के अपहरन की खबर सुन मात्र 15 मिनिट मे पुलिस भी ढाबे पर पहुँच गयी अब सचिन राजू ओर अंकोला को भी कार से उतरना पड़ा सचिन बार बार यकीन दिलाते रहे की हम सब साथी है और घूमने आए है लेकिन पुलिस ये मानने को तयार न थी अंतत सभी को लेकर होटल बेले व्यू गुवाहाटी ले जाया गया जहां रिशेप्शन रूम मे होटल निदेशक अग्निरथ के पिता हेमेन्द्र दत भारतीय टीम के कप्तान अज़हर और टीम मेनेजर अजित वाडेकर को बुलाया गया बड़ी मशक्कत के बाद लगभग 2 घंटे बाद यकीन दिलाया गया की तीनों क्रिकेट खिलाड़ी टीम मेनेजर की परमिशन से ही बाहर घूमने गए थे एवं होटल निदेशक का बेटा अग्निरथ उनका मित्र है जो अपनी निजी कार मे इन्हे घुमाने ले गया था

Sachin tendulkar when sachin kidnapped

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

क्रिकेट जगत का पहला फिक्स मैच ओर बॉलीवुड कनैक्शन 53 साल पुरानी सच्ची घटना

क्रिकेट जगत का पहला फिक्स मैच ओर बॉलीवुड कनैक्शन 53 साल पुरानी सच्ची घटना  जिस तरह आज कल क्रिकेट जगत मे फिक्सिंग का साया अक्सर मंडर...