सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

swami vivekananda


स्वामी जी से जुड़ा दिलचस्प वाकया 



swami vivekananda




वैसे तो स्वामी जी से जुड़े कई दिलचस्प किस्से है जिन्हे पढ़ सुन कर आज भी महसूस होता है की महान व्यक्तित्व के धनी लोग सदियों मे अकाध ही जन्म लेते है एव बहुत कम अंतराल के लिए धरती पर जीवन यापन करते है क्योकि ऐसे महापुरुषो के लिए स्वत देवता भी भुजाए फैलाये रहते है स्वामी विवेकानंद जी भी उन ही महान व्यक्तियों मे से एक थे जिन्होने अखंड सनातन धर्म को विश्व पटल पर नए तरीके से प्रस्तुत करने का कार्य किया राजस्थान के खेतड़ी रियासत के महाराजा के सहयोग से स्वामी जी 1893 मे अमेरिका पहुंचे एवं वहाँ विश्व धर्म सभा मे भारत के तरफ से सनातन धर्म हेतु अपना पक्ष रखा उसके बाद जो हुआ वो सर्व विदित है

स्वामी जी का वो भाषण जिसकी शुरुवात उन्होने मेरे प्यारे अमेरिकी भाइयो ओर बहनो से की थी और उस के बाद लगातार 5 मिनिट तक स्वामी कुछ नही बोले क्योकि पूरा कॉरीडोर तालियो से गूंज रहा था देवियो ओर सज्जनों कहने वाले बाकी सभी धर्मगुरुयों से अलग वहाँ स्वामी जी ऐसे पहले वक्ता थे जिन्होने वहाँ बैठे लोगो को भाईयो ओर बहनो कहा जो सबके हृदय को छु गया

दिलचस्प घटना
शिकागो यात्रा के दौरान भी स्वामी जी अपने सनातन धर्म का पालन करते हुए भगवा वस्त्रो मे ही रहते थे जो अमेरिकी लोगो के लिए ये पहनावा अटपटा सा था इससे पहले अमेरिकियो ने इस तरह भगवा धारण किए किसी साधु को नही देखा था एक बार स्वामी जी शिकागो से ट्रेन का सफर कर रहे थे उनके सामने बैठी 2 महिलाए लगातार स्वामी जी की वेषभूषा को लेकर टिप्पणियाँ कर रही थी स्वामी जो अनपढ़ गंवार इत्यादि बोल रही थी लेकिन स्वामी उनको दरकिनार कर अपने सफर का आनंद लेने मे व्यस्त थे तभी उन मे से एक महिला ने स्वामी जी हाथ मे महंगी घड़ी देखी जो स्वामी जी को उनके किसी अमेरिकी मित्र ने भेंट मे दी थी महिलाए ये देख कर हैरान थी की ऐसी गंवार वेषभूषा वाले व्यक्ति के हाथ मे इतनी महंगी घड़ी कैसे????
अब महिलाओ ने भी स्वामी जी के स्वभाव के साथ खेलने का फेसला किया ओर स्वामी जी से कहा की अपने हाथो मे जो घड़ी है वो उतारिए वरना हम पुलिस बुलाएँगे  इस पर स्वामी जी ने कोई प्रतिक्रिया नही दी महिला ने दुबारा कहा तो स्वामी जी ने बहरे होने का नाटक किया ओर कान की तरफ हाथ करते हुए महिलाओ को इशारे मे समझाया की उन्हे कुछ सुनाई नही दे रहा है
महिलाओ ने दुबारा इशारों मे कहा की घड़ी उतारिए तो स्वामी ने हाथ से इशारा करते हुए कहा की लिख कर दीजिये जो कहना चाहते हो????
महिलाए समझ गयी की स्वामी जी बहरे है सुन नही सकते सो एक महिला ने कागज पर लिख कर दिया की अपनी घड़ी हमे दे दो वरना हम पुलिस बुलाएँगे

स्वामी जी ने कागज हाथ मे लिया पढ़ा और मुसकुराते हुए पहली बार बोले की अब बुलाईए पुलिस मुझे भी पुलिस से कुछ कहना है
सामने बैठी दोनों महिलाए हक्की बक्की थी वे जिन्हे ठगने चली थी समझ गयी थी की एक भारतीय ने उन्हे ही ठग लिया है अगले ही स्टेशन पर दोनों महिलाए उतर गयी स्वामी जी मन ही मन मुस्कुरा रहे थे

इसके अलावा एक और दिलचस्प वाकया हुआ जब स्वामी जी शिकागो मे अपना व्यक्तव्य दे कर मंच से नीचे उतर रहे थे तब एक अमेरिकी महिला स्वामी जी के पास आई ओर कहा की मुझे आपसे शादी करनी है ओर  हमारे जो बच्चा होगा वो आपके जैसा महान व्यक्तित्व वाला होगा  स्वामी जी की भोहे तन गयी तुरंत जवाब देते हुए स्वामी जी ने कहा की सनातन धर्म मे साधु शादी नही करते ओर मे एक साधु हूँ लेकिन आप मुझे अपना बेटा बना सकती है ताकि आपको भी महान व्यक्तित्व वाला बेटा मिल जाएगा जवाब सुन कर महिला हैरान थी बाद मे महिला ने स्वामी की शिष्या बनने का निर्णय लिया ओर उनके साथ भारत आई जिंनका नाम निवेदिता था

टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

If you have any doubts, please let me know

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क्रिकेट जगत का पहला फिक्स मैच ओर बॉलीवुड कनैक्शन 53 साल पुरानी सच्ची घटना

क्रिकेट जगत का पहला फिक्स मैच ओर बॉलीवुड कनैक्शन 53 साल पुरानी सच्ची घटना 
जिस तरह आज कल क्रिकेट जगत मे फिक्सिंग का साया अक्सर मंडराया रहता है उससे हर किसी के मन मे एक ही ख्याल आता है की क्या वास्तव मे मैच फिक्स होते होंगे ???? क्या आज भी क्रिकेटर अपने देश को धोखे मे रखे हुए है ??
आइये आज हम आपको एक दिलचस्प किस्सा सुनाते है जो आज से करीब 53 साल पहले घटित हुआ था जी हा 
हुआ कुछ ऐसा था की वो क्रिकेट जगत का पहला फिक्स मैच होने जा रहा था जिसमे बल्लेबाज मैच से पहले पैसे लेकर 0 पर आउट होने वाला था लेकिन अचानक ऐसा क्या हो गया जो सब कुछ तय होने के बाद भी मैच फिक्स ही नही हो पाया ???
आइये जानते है पूरी कहानी

दरअसल वर्ष 1966-67 मे उस दौर की ताकतवर टीम वेस्टइंडीज भारत के दौरे पर आई हुई थी ओर वेस्टइंडीज के कप्तान थे सर गैरी सोबर्स जिनके बारे मे सुनील गावस्कर तक ने कहा था की सोबर्सइतने काबिल कप्तान थे की रेसकोर्स पर जाने के लिए टेस्ट मैच को रेस होने से पहले ही खतम करने का माद्दा रखते थे क्रिकेट इतिहास मे सर सोबर्स की क्या जगह है ये तय करना भी बड़ा मुश्किल है कोई उन्हे मिलेनियम स्टार कहते थे तो वेस्टइंडीज…

Rajkumar राजकुमार के अजब-गजब किस्से

Rajkumar  राजकुमार के अजब-गजब किस्से




आज हम आपको बताएँगे बलूचिस्तान मे जन्मे मुंबई मे पले बढ़े माहिम थाने के एक अड़ियल जिद्दी सब इंस्पेक्टर और बाद मे बॉलीवुड मे राजकुमार नाम से मशहूर हुए कुलभूषण पंडित से जुड़े दिलचस्प किस्से

फिल्म निर्देशक प्रकाश मेहरा अपनी फिल्म जंजीर की तयारी मे लगे थे और उन्होने जंजीर मे पुलिसवाले का रोल मशहूर अभिनेता राजकुमार को देख कर ही लिखा था बड़ी मुश्किल से राजकुमार ने प्रकाश मेहरा को मिलने का वक्त दिया क्योकि 70 का दशक आते आते राजकुमार इस मुकाम तक पहुँच चुके थे की जब बड़े से बड़े निर्माता राजकुमार से सीधी जुबान बात नही कर पाते थे कारण राजकुमार का वही अड़ियल रवैया जो फिल्मों मे देखने को मिलता था वो निजी ज़िंदगी मे भी कायम था और वे ठहरे हाजिरजवाब व्यक्ति. भला अगला कुछ पूछे उससे पहले अगले को आईना दिखाने के लिए राजकुमार के होठो पर जैसे शब्द स्वत उभर आते थे फिल्मी पंडितो की माने तो पारदर्शी साफ़्गोई से सच्ची बात कह कर अगले की ओकात बता देने वाला फिल्म इंडस्ट्री मे अकेला इंसान सिर्फ राजकुमार ही थे राजकुमार की खासियत थी की उनके सामने कितना भी बड़ा आदमी खड़ा हो उसे उसकी ओकात याद द…

विश्व कप विशेष: पहला विश्व कप पहला मैच ओर गावस्कर के 36 रन का आज तक वो रिकॉर्ड नही टूटा है

क्रिकेट विश्व कप इतिहास का पहला मैच ओर उसमे ही भारत के महान खिलाड़ी सुनील गाव्स्कर ने कुछ ऐसा किया की क्रिकेट जगत के इतिहास मे एक नया रिकॉर्ड बन गया जो आज तक कायम है ओर आधुनिक दौर के फास्ट क्रिकेट को देखे तो लगता है की बदकिस्मती से अब वो रिकॉर्ड गावस्कर के नाम ही रहेगा




क्रिकेट शुरुवाती दौर से टेस्ट मैच गेम रहा है जिसे जेंटलमेन गेम कहा गया 5 दिन का मैच इंगलिश सम्मर हल्की हल्की धूप ओर दर्शको की तालियो से गूँजता स्टेडियम सिवाए तालियो की गड़गड़ाहट के कोई शोर शराबा न होता था कोई अग्रेसन नही जैसा फुटबॉल के मेचो मे अक्सर होता था शायद इसीलिए क्रिकेट को जेंटलमेन खेल ही कहा जाता था ओर उस दौर मे भारतीय क्रिकेट का उभरता सितारा था सुनिल मनोहर गावस्कर भूरी आंखो घुंघराले बालो वाला 5फिट 4इंच के साधारण कद वाले इस युवा ने जब 1970 मे इंडीज दौरे से क्रिकेट की शुरुवात की सभी क्रिकेट प्रेमियो को अपना कायल बना चुका था
 फिर आया साल 1975 जब आईसीसी ने पहली बार टेस्ट sport के लेबल से बाहर निकलने की कोशिश की ओर क्रिकेट जगत का पहला विश्व कप इंगलेंड मे आयोजित करवाया टेस्ट क्रिकेट खेलने के आदि सभी खिलाड़ियो के लिए ये…