सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

why google is best search engine???

why google is the best  search engine in the world???


why google is best search engine

आखिर क्या कारण है की इंटरनेट की दुनिया मे गूगल सर्च  अपना कब्जा जमाये हुए है ओर हाल फिलहाल गूगल को टक्कर देने वाला कोई आस पास भी नही है????

बात 21 की सदी के उभरते समय की है जब भारत मे इंटरनेट नया नया प्रवेश किया था और हम स्टूडेंट होने के नाते अपने जिज्ञासु दिमाग को लेकर नेट केफे पहुँच जाया करते थे जहां प्रति घंटे 20 से लेकर 50 रु तक का चार्ज लिया जाता था ये बात सन 2000 की है जब 20रु मे आप बस मे बैठ कर 80 से 100 किलोमीटर का सफर कर सकते थे अर्थात 20 रु की बहुत अहमियत थी आज के दौर के 100रु प्रति घंटे जितनी 
शुरुवात मे याहू सब पर भारी था ओर उस दौर मे लगभग हम सबने अपनी पहली ईमेल आईडी याहू के मार्फत ही बनाई थी याहू मे मेसेंजर वाला भी ऑप्शन था जहां आप नए दोस्त बना कर चेट कर सकते थे ये शायद बाहर की दुनिया के लोगो को इंटरनेट के जरिए एक दूसरे से जोड़ने वाला दुनिया मे पहला सिस्टम था फेसबुक और  वाट्सप्प का तब जन्म भी नही हुआ था याहू के बाद कुछ सालो तक ऑर्कुट ने भी नेट की दुनिया मे अपना कब्जा जमाया क्योकि ऑर्कुट के पास याहू से बेहतर ऑप्शन थे सो लोग ऑर्कुट की तरफ खींचे चले आ रहे थे लेकिन सर्च इंजन मे याहू फिर भी प्रथम था  

इन सब से दूर लेरी पेज ओर सेरगे ब्रिन नामक दो छात्रो ने 1996 मे ही एक सर्च इंजन बना लिया था जिसका नाम था GOOGLE दरअसल गूगल शब्द गुगोल से बना था जिसका मतलब था एक के बाद सो शून्य
Google शुरूआती दिनों में पॉपुलर नहीं हुआ। इन दोनों को लग रहा था कि Google की वजह से इनकी पढ़ाई भी नहीं हो पा रही है। इसी कारण इन्होंने Google को बेचने का मन बनाया। इस फार्मूले को इन दोनों नौजवानों ने Excite कंपनी को बेचना चाहा। पर  कंपनी ने इस ऑफर को ठुकरा दिया। सभी कंपनियों के मना कर देने के बाद इन्होंने Andy Bechtolsheim नाम के investor को अपना प्रोजेक्ट बताया। Andy को वह प्रोजेक्ट बहुत अच्छा लगा। उसने  तुरंत 1 लाख डॉलर का चेक दोनों को दिया। इसके बाद कुछ और investor ने इसमें अपने पैसे लगाये। सितम्बर 4, 1998 में Google को एक कम्पनी में स्थापित किया गया।
लेकिन इंटरनेट की दुनिया मे कब्जा जमाना ओर राज करना इतना आसान नही होता जितना बाहर से सबको लगता है इसलिए 2008 से पहले अमेरिका से बाहर  शायद बहुत ही कम नेट यूजर होंगे जिन्होने गूगल का नाम सुना हो या इसका उपयोग किया हो 

धीरे धीरे अपने पेज रेंक के फोर्मूले के कारण गूगल लोगो मे चर्चित होता गया लेकिन गूगल के सामने भी सबसे बड़ी समस्या वही आ रही थी जिस कारण से याहू ओर ऑर्कुट भी बंद होने के कगार पर थे ऐसे मे गूगल ने एक नया फॉर्मूला निकाला जिसका नाम था  गूगल एडवर्ड जो गूगल के लिए नए नए एडवरटाइजर की व्यवस्था करता था ओर सर्च इंजन पर एड भी उस तरीके से लगाता था जिससे आम नेट यूर्ज्स को तकलीफ भी न हो ओर गूगल का कार्य भी बदस्तर जारी रहे गूगल का ये फार्मूला काम कर गया बड़ी बड़ी कंपनीया सस्ते दामो मे गूगल पर अपने विज्ञापन लगवाती ओर गूगल की गाड़ी चल पड़ी इसके बाद जो हुआ वो हेरतंगेज़ था क्योकि गूगल अपनी सारी कमाई छोटे मोटे सर्च इंजन वैबसाइट को खरीदने मे लगा रहा था गूगल समझ गया था की इस मार्केट मे पाँव जमाने है तो अपने प्रतिद्वंदी को आस पास भी नही भटकने देना है आप ये जान कर हेरान रह जाएंगे की वर्ष 2010 से लेकर आज तक गूगल हर सप्ताह एक कंपनी खरीद लेता है गूगल की दूरदर्शिता इसी से साबित हो जाती है की यू ट्यूब को उभरने से पहले ही गूगल ने करोड़ो मे खरीद लिया था जिसकी आज कीमत है लगभग 1.65 बिलियन डॉलर अर्थात  1,13,61,90,00,000रु  गूगल ने जब एंडरोइड खरीदा उसकी कीमत थी 50 मिलियन डॉलर अर्थात 3,44,30,00,000 रुपये 
इसके अलावा गूगल ने जो बड़ी शॉपिंग की उसमे मोटरोला वाज़ेइयर ओर डबलक्लिक जैसी बड़ी कंपनीया शामिल है अर्थात गूगल वालो का मेनेजमेंट इतना तगड़ा है की वे इस स्थिति को बेहतर समझ जाते है की कोनसी कंपनी उन्हे टक्कर देने वाली है ओर कोनसी कंपनी उनके लिए सोने का खजाना साबित हो सकती है  गूगल ने अपने नाम से मिलते जुलते सारे डोमेन खरीद लिए इसलिए आप कभी भी नेट पर गूगल सर्च करते हुए अगर स्पेलिंग गलत भी लिख दे तो भी गूगल की वैबसाइट ओपन हो जाती है 
इससे भी मजेदार बात ये है की आप www.466453.com सर्च करेंगे तो भी आपके सामने गूगल की साइट खुलेगी कारण की गूगल ने इस डोमेन को भी खरीद लिया है दरअसल  आप का मोबाइल किपैड जिसमे अल्फ़ाबेटिक वर्ड के साथ नंबर भी होते है वहाँ जब आप गूगल टाइप करेंगे तो 466453 नंबरो पर टाइप करना पड़ेगा ऐसे मे अगर गलती से अल्फ़ाबेटिक वर्ड की जगह नंबर भी टाइप हो जाए तो भी गूगल आपको अपने सर्च इंजन मे पहुंचा देगा शायद इसी लिए गूगल आज दुनिया मे टॉप पर है 

क्या गूगल सिर्फ सर्च इंजन का बादशाह है या पूरे इंटरनेट जगत का?????


आजकल नेट सर्फिंग करने वालो के दिमाग मे सबसे बड़ा यही सवाल है ओर इसका जवाब जानकर आप भी हेरान रह जाएंगे की गूगल से ऊपर भी कोई है जो आज के वक्त मे इंटरनेट का  बादशाह कहलाता है जिसका नाम है अमेजोंन 
जी हाँ गूगल सर्च इंजन बादशाह है बेशक लेकिन इंटरनेट का बादशाह आज भी अमेजोंन है क्योकि कंपनी की ग्रोथ ओर कमाई की बात करे तो अमेजोंन ने जिस गति से चढ़ाई की है इसके बारे मे खुद गूगल ने भी नही सोचा होगा वर्ष 2018 तक अमेजोंन ने 232 बिलियन डॉलर की कमाई कर ली थी जो सालाना इंटरनेट पर किसी भी वैबसाइट द्वारा की गयी अब तक की सबसे ज्यादा कमाई थी  अमेजोंन के अलावा माइक्रोसॉफ्ट एपल दोनों कंपनीया गूगल को बदस्तूर टक्कर दिये जा रही है गूगल को अपना सोशल प्रोडेक्ट Google+ हाल मे बंद करना पड़ा क्योकि सोशल मीडिया की दुनिया मे मार्क जुकेरबर्ग के  फेसबुक इंस्टाग्राम ओर व्हात्सप्प ने तहलका मचा रखा है उधर अमेजोंन वेब सर्विस ने गूगल क्लाउड को बुरी तरह पछाड़ दिया है आपको एक बात ओर  जानकर हेरानी हो सकती है की हाल के आंकड़ो के अनुसार दुनिया मे सबसे अमीर व्यक्ति अमेजोंन के मालिक जेफ़ बेजोस है जबकि दूसरे नंबर पर माइक्रोसॉफ्ट के बिल गेट्स सोशल मीडिया के बादशाह मार्क जुकेरबर्ग 8वे पायेदान पर है ओर गूगल के मालिक लेरी पेज 10वे नंबर पर 


why google is best search engine in world

जहां दूसरी कंपनिया अच्छे प्रोडक्ट पर ध्यान लगाती है वही गूगल दूसरी कंपनियो पर नजर जमाए रखता है की कोनसी अच्छी है कोनसी हमे टक्कर देने वाली है ओर गूगल तुरंत उसे खरीद लेता है इसलिए सर्च इंजन के मामले मे गूगल को कोई टक्कर नही दे पाता 


अर्थात हम ये कह सकते है की बेशक गूगल आज भी सर्च इंजन के मामले मे दुनिया मे टॉप पर है ओर हाल फिलहाल कोई गूगल के करीब भी नही दिखता लेकिन अगर पूरी इंटरनेट दुनिया पर बादशाहत की बात की जाए तो अमेजोंन अब माइक्रोसॉफ्ट ओर गूगल दोनों को पछाड़ते हुए टॉप पर है 



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क्रिकेट जगत का पहला फिक्स मैच ओर बॉलीवुड कनैक्शन 53 साल पुरानी सच्ची घटना

क्रिकेट जगत का पहला फिक्स मैच ओर बॉलीवुड कनैक्शन 53 साल पुरानी सच्ची घटना 
जिस तरह आज कल क्रिकेट जगत मे फिक्सिंग का साया अक्सर मंडराया रहता है उससे हर किसी के मन मे एक ही ख्याल आता है की क्या वास्तव मे मैच फिक्स होते होंगे ???? क्या आज भी क्रिकेटर अपने देश को धोखे मे रखे हुए है ??
आइये आज हम आपको एक दिलचस्प किस्सा सुनाते है जो आज से करीब 53 साल पहले घटित हुआ था जी हा 
हुआ कुछ ऐसा था की वो क्रिकेट जगत का पहला फिक्स मैच होने जा रहा था जिसमे बल्लेबाज मैच से पहले पैसे लेकर 0 पर आउट होने वाला था लेकिन अचानक ऐसा क्या हो गया जो सब कुछ तय होने के बाद भी मैच फिक्स ही नही हो पाया ???
आइये जानते है पूरी कहानी

दरअसल वर्ष 1966-67 मे उस दौर की ताकतवर टीम वेस्टइंडीज भारत के दौरे पर आई हुई थी ओर वेस्टइंडीज के कप्तान थे सर गैरी सोबर्स जिनके बारे मे सुनील गावस्कर तक ने कहा था की सोबर्सइतने काबिल कप्तान थे की रेसकोर्स पर जाने के लिए टेस्ट मैच को रेस होने से पहले ही खतम करने का माद्दा रखते थे क्रिकेट इतिहास मे सर सोबर्स की क्या जगह है ये तय करना भी बड़ा मुश्किल है कोई उन्हे मिलेनियम स्टार कहते थे तो वेस्टइंडीज…

Rajkumar राजकुमार के अजब-गजब किस्से

Rajkumar  राजकुमार के अजब-गजब किस्से




आज हम आपको बताएँगे बलूचिस्तान मे जन्मे मुंबई मे पले बढ़े माहिम थाने के एक अड़ियल जिद्दी सब इंस्पेक्टर और बाद मे बॉलीवुड मे राजकुमार नाम से मशहूर हुए कुलभूषण पंडित से जुड़े दिलचस्प किस्से

फिल्म निर्देशक प्रकाश मेहरा अपनी फिल्म जंजीर की तयारी मे लगे थे और उन्होने जंजीर मे पुलिसवाले का रोल मशहूर अभिनेता राजकुमार को देख कर ही लिखा था बड़ी मुश्किल से राजकुमार ने प्रकाश मेहरा को मिलने का वक्त दिया क्योकि 70 का दशक आते आते राजकुमार इस मुकाम तक पहुँच चुके थे की जब बड़े से बड़े निर्माता राजकुमार से सीधी जुबान बात नही कर पाते थे कारण राजकुमार का वही अड़ियल रवैया जो फिल्मों मे देखने को मिलता था वो निजी ज़िंदगी मे भी कायम था और वे ठहरे हाजिरजवाब व्यक्ति. भला अगला कुछ पूछे उससे पहले अगले को आईना दिखाने के लिए राजकुमार के होठो पर जैसे शब्द स्वत उभर आते थे फिल्मी पंडितो की माने तो पारदर्शी साफ़्गोई से सच्ची बात कह कर अगले की ओकात बता देने वाला फिल्म इंडस्ट्री मे अकेला इंसान सिर्फ राजकुमार ही थे राजकुमार की खासियत थी की उनके सामने कितना भी बड़ा आदमी खड़ा हो उसे उसकी ओकात याद द…

विश्व कप विशेष: पहला विश्व कप पहला मैच ओर गावस्कर के 36 रन का आज तक वो रिकॉर्ड नही टूटा है

क्रिकेट विश्व कप इतिहास का पहला मैच ओर उसमे ही भारत के महान खिलाड़ी सुनील गाव्स्कर ने कुछ ऐसा किया की क्रिकेट जगत के इतिहास मे एक नया रिकॉर्ड बन गया जो आज तक कायम है ओर आधुनिक दौर के फास्ट क्रिकेट को देखे तो लगता है की बदकिस्मती से अब वो रिकॉर्ड गावस्कर के नाम ही रहेगा




क्रिकेट शुरुवाती दौर से टेस्ट मैच गेम रहा है जिसे जेंटलमेन गेम कहा गया 5 दिन का मैच इंगलिश सम्मर हल्की हल्की धूप ओर दर्शको की तालियो से गूँजता स्टेडियम सिवाए तालियो की गड़गड़ाहट के कोई शोर शराबा न होता था कोई अग्रेसन नही जैसा फुटबॉल के मेचो मे अक्सर होता था शायद इसीलिए क्रिकेट को जेंटलमेन खेल ही कहा जाता था ओर उस दौर मे भारतीय क्रिकेट का उभरता सितारा था सुनिल मनोहर गावस्कर भूरी आंखो घुंघराले बालो वाला 5फिट 4इंच के साधारण कद वाले इस युवा ने जब 1970 मे इंडीज दौरे से क्रिकेट की शुरुवात की सभी क्रिकेट प्रेमियो को अपना कायल बना चुका था
 फिर आया साल 1975 जब आईसीसी ने पहली बार टेस्ट sport के लेबल से बाहर निकलने की कोशिश की ओर क्रिकेट जगत का पहला विश्व कप इंगलेंड मे आयोजित करवाया टेस्ट क्रिकेट खेलने के आदि सभी खिलाड़ियो के लिए ये…